LightBlog

amazon प्राइम पर एक नया शो मिर्ज़ापुर शुरू हुआ है जिसकी कहानी एक गुंडे मुन्ना और २ शरीफ लड़के अली और विक्रांत. मुन्ना अखंडानंद त्रिपाठी क...


amazon प्राइम पर एक नया शो मिर्ज़ापुर शुरू हुआ है जिसकी कहानी एक गुंडे मुन्ना और २ शरीफ लड़के अली और विक्रांत. मुन्ना अखंडानंद त्रिपाठी का बीटा है और एक बदमाश है.
 इस फिल्म में बुत आचे और जाने माने अभिनेताओं के कान किया है जैसे अली फैज़ल, पंकज त्रिपाठी, विक्रांत मैसी, देव्यन्शु शर्मा, राशिका और स्वेता तिवारी.
 इस शो में खून खराबा थोडा जादा है तोह एक्शन कि कोई कमी नही रहेगी. इस शो का पहला एपिसोड आ चूका है जिसमे दिखाया गया है कि मुन्ना के खिलाफ कोर्ट में केस लड़ेंगे अली और विक्रांत कि पिता पंडित जो कि एक इमानदार वकील है और एक बहुत आचे इन्सान भी अली और विक्रांत कि ज़िन्दगी यही से बदलनी शुरू हो जाती है और दोनों के साथ आगे क्या क्या होगा वो देखना अभी बाकि है.
 इस शो में दियोलॉग्स भी कमल के है और कुक कुक जगह पर आप वो लाइन्स सुन के दंग रह जायेंगे.

१४ नवम्बर जो कि बाल दिवस के नाम से भी जाना जाता है असलियत में भारत के पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू का जन्मदिन है।  जवाहरलाल नेहरू...


१४ नवम्बर जो कि बाल दिवस के नाम से भी जाना जाता है असलियत में भारत के पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू का जन्मदिन है।
 जवाहरलाल नेहरू जी बच्चों से बेहद प्रेम करते थे जिस कारण उन्होंने हज़ारों बच्चों की मदद भी करी । नेहरू जी के बारे में कुक ऐसी दिलजस्प बातें जो आप शायद नहीं जानते होंगे ।
* जवाहरलाल नेहरू जी को की पक्की सीट भी मिली थी जो उन्होंने चीन को तौफे के तौर पर दे दी ।
* जवाहरलाल नेहरू जी ने खुद को भारत रत्न अवार्ड दिए था जिसके बाद इंद्रा गांधी जी ने भी यही किया।
* जवाहरलाल नेहरू जी ने ही भारत में लोकतंत्र की मजबूत नींव जमायी थी जिसके कारण आज भारत में लोकतंत्र इतना मज़बूत है।
 इसके इलावा जवाहरलाल नेहरू जी ने ही भारत में फ्री स्पीच के कानून की शुरुआत करी थी जिस कारण उन सभी कार्टूनिस्ट को भी बेल मिल गयी थी जिन्होंने जवाहरलाल नेहरू जी के आपत्तिजनक चित्र बनाये थे ।

बुद्गम में एक खोज ऑपरेशन के दौरान २ आतंकवादियों कि हत्या हुई है और साथ ही साथ बहुत सारा सामान भी बरामत हुआ है जैसे हतियार और बहुत सा ख...


बुद्गम में एक खोज ऑपरेशन के दौरान २ आतंकवादियों कि हत्या हुई है और साथ ही साथ बहुत सारा सामान भी बरामत हुआ है जैसे हतियार और बहुत सा खतरनाक सामान.
 ब्रिस्पत्वार को सिक्यूरिटी के जवानो ने २ अतंकवादियो कि मर गिराया और ये घटना जागूँ इलाके में हुई है जो खान साहिब बुद्गन जिले में परता है, जम्मू और कश्मीर.
 ये एनकाउंटर के खोज ऑपरेशन था जो कश्मीर कि पुलिस और सिक्यूरिटी ने साथ मिलकर किया था ताकि वो वह छिपे आतंकवादियों के बारे में जानकारी इखत्ता कर सके.
 ऑपरेशन के समय में अतंकवादियो ने पुलिस वालों पर हमला भी किया जिस कारण उनकी जान चली गयी. उनकी पहचान गुप्त राखी जा रही है और जिस जगह एनकाउंटर हुआ है वोह अभी भी पुलिस वालों कि नज़र पर है और अभी भी वह तलाशी जारी है.
 जब तक तलाशी पूरी नही हो जाती ये जगह बंद रहेगी और किसी भी आम इन्सान को यह आने कि इजाज़त नही है.
 अंत में यह भी देखा गया है कि गाँव के लोग पुलिस पर अतंकवादियो कि मरने कि वजग से पत्थरबारी कर रहे है.

अमेरिका ईरान के खिलाफ नए प्रबंधो को जरी करने जा रहा है और इसकी बहुत ही बेमतलब वजह है और वो ईरान के १२ मांगे पूरी न कर पाने कि वजह से है...


अमेरिका ईरान के खिलाफ नए प्रबंधो को जरी करने जा रहा है और इसकी बहुत ही बेमतलब वजह है और वो ईरान के १२ मांगे पूरी न कर पाने कि वजह से है.इसी कारण इस पालिसी कि नाम दिया गया है 'अ रेगिमे चंगे पालिसी इन आल बट नेम' है.
 इस पालिसी को शुरू कर दिया गया है और इसी कारण ईरान कि हालत इतनी बुरी हो गयी है कि वो खाना और दवाइयों कि खटप में कटौती कर चुके है ईरान के लोग के पास इतने पैसे भी नही है कि वो गरीबों के लिए दवाइयों का दान कर सकें और इसी कारण वह ४ मेहेत्वपूर्ण दवाइयां भी ख़तम हो चुकी है.
 इस कारण ईरान कि अर्थव्यवस्था पर बहुत बुरा असर परा है और उनके इंटरनेशनल मोनेटरी फण्ड भी अगले साल तक ३.६ प्रतिशत तक गिर जायेंगे. अमेरिका ईरान कि इस हालत का ज़िम्मेदार भी ईरान को ही ठहरा रहा है जबकि अमेरिका कि वजग से ईरान ले लोगों का जीना मुश्किल हो रहा है.
 अमेरिका बड़ी ही चालाकी से ईरान के लोगो को खाने और दवाइयों के लिए तरपा भी रहा है और खीर में यह इलज़ाम भी लगा देंगे कि इसमें भी ईरान कि गलती है कि वो अमेरिका कि १२ बेबुनियत मांगे पूरी नही कर सके.

अनुपम खेर जी ने फिल्म एंड टेलिविज़न इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया से इस्तीफा दे दिया है.उनके पत्र को राज्यवर्धन सिंह राठौर जी ने मानते हुए उनकी अ...


अनुपम खेर जी ने फिल्म एंड टेलिविज़न इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया से इस्तीफा दे दिया है.उनके पत्र को राज्यवर्धन सिंह राठौर जी ने मानते हुए उनकी अर्जी को स्वीकार कर लिया है और उन्हें सारी सेवाओं और योगदान के लिए धन्यवाद भी दिया है.
 उनके इस्तीफा देने का एक ख़ास मकसत था और वो यह था कि उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय टीवी शो को वादा दिया हुआ था और उस वादे के हिसाब से अब उन्हें अमेरिका जाना पड़ेगा.
 उन्हें अभी अमेरिका में ९ महीने के लिए रहना पड़ेगा और उसके बाद आने वाले ३ सालो में भी. उनके पत्र में भी यह लिखा है कि अपने वादे के कारण अब वो ये ज़िम्मेदारी नहीं संभल पाएंगे.
जब उन्होंने चेयरमैन बन्ने का प्रस्ताव स्वीकार किया था तब ही उन्होंने अपने इस वादे के बारे में बता दिया था. वो यह कहते है कि जब वो इस ज़िम्मेदारी पर ध्यान नही दे पाएंगे तो अब रहने का कोई फ़ायदा नही है क्युकी इससे बच्चो का नुकसान होगा.
 अनुपम खेर जी ने पिछले साल अक्टूबर में गजेन्द्र चौहान को हटा कर ये पोस्ट हासिल करी थी.

भारत के प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने आज स्टेचू ऑफ़ यूनिटी की घोषणा कर दी है. ये कारीगरी भारत के पहले होम मिनिस्टर सरदार वल्लाब्भई प...


भारत के प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने आज स्टेचू ऑफ़ यूनिटी की घोषणा कर दी है. ये कारीगरी भारत के पहले होम मिनिस्टर सरदार वल्लाब्भई पटेल के सम्मान में बनवाई गयी है.
 कहा जा रहा है कि ये स्टेचू कि लम्बाई १८२ मीटर होगी और यह संधू बेत आइलैंड पर बानाया जायेगा जो नर्मदा नदी में स्तिथ है. यह स्टेचू दुनिया का सबसे बड़ा स्टेचू होगा और इसकी ऊंचाई चाइना के स्प्रिंग टेम्पल कि बुद्धा कि मूर्ति से भी २९ मीटर लम्बी होगी.
 और स्तुए ऑफ़ लिबर्टी से लगभग दुगनी लम्बी होगी. इस मूर्ति को बनाने में २,३८९ करोड़ रुपये के करीब लगे है. ये मूर्ति पटेल जी को श्रद्धांजलि देने के लिए बनाई जा रही है जिन्होंने भारत पाकिस्तान के अलग होने के समय राजनीती में अपना महवपूर्ण योगदान दिया है.
 हमारे पहले होम मिनिस्टर पटेल जी को सम्मान देने के लिए ३ भारत हवाई सेना के जहाज़ उनकी मूर्ति के ऊपर से भारत के झंडे के तीनो रंग उढ़ाते हुए जायेंगे. इस स्टेचू कि घोषणा के साथ गुजरात सर्कार ये भी उम्मीद कर रही है कि इससे टूरिस्म को भी बढ़ावा मिलेगा और यह उम्मीद कि जा रही है कि रोज़ के कम से कम १५००० टूरिस्ट आया करेंगे. इसके इलावा यह पर एक म्यूजियम भी है जो पटेल जी कि ज़िन्दगी पर आधारित है.

वन प्लस ने अपना नया और सबसे बेहतरीन फ़ोन नवंबर में सारी दुनिया के सामने लेकर आ रहा है । इस फ़ोन का नाम है वोने प्लस ६टी ।  ये फ़ोन बहुत स...


वन प्लस ने अपना नया और सबसे बेहतरीन फ़ोन नवंबर में सारी दुनिया के सामने लेकर आ रहा है । इस फ़ोन का नाम है वोने प्लस ६टी ।
 ये फ़ोन बहुत सारी नयी और अछि खूबियों से भरा हुआ है जैसे ६.४१ की स्क्रीन जिसमे १०८० × २२८० पिक्सेल्स का रिज़ोलुशन है।
 इस कमाल के फ़ोन में और बहुत सी नयी खूबियां है जैसे ओक्टा कोर प्रोसेसर ६ गी बी रैम के सठ। ये फ़ोन सारा दिन बिना चार्ज करे भी चलाया जा सकता है क्यूंकि इसमें ३७०० Mah की बैटरी लाइफ है। इस फ़ोन के साथ आप बेहतरीन फोटो ही खींच सकते हो क्युकिइसमे १६ + २० MP का कैमरा भी है।
 इस फ़ोन के अंदर कई बढ़िया सेंसर्स भी है जैसे एग्मोर RS, कंपास, गयरोस्कोपे, लाइट सेंसर्स और प्रोक्सिमिटी सेंसर्स आदि । इस फ़ोन में फिंगरटिप सेंसर और ग्राफ़िक्स सेंसर्स भी है जिसके साथ आप कोई भी गेम बड़े ही मज़े और आसानी से खेल सकते हो।
 १२८ गी बी की स्टोरेज ये फ़ोन आपको देता है लेकिन आप मेमोरी कार्ड के ज़रिये इससे और जाड़ा बड़ा भी सकते हो।इसके इलवा ये फ़ोन दिखने में बहुत ही पतला है और इसका वज़न सिर्फ १८५ ग्राम्स है।
 जाइये और अभी ये फ़ोन की बुकिंग घर बैठे कीजिये और एक मज़ेदार और अच्छे फ़ोन का आनंद उठाइये।

छत्तीसगढ़ में चल रहे मॉइस्ट अटैक में १ दूरदर्शन कैमरामैन और २ पुलिस वाले मारे गए है। ये घटना दंतेवाड़ा जिला छत्तीसगढ़ में हुई है और अगले मह...


छत्तीसगढ़ में चल रहे मॉइस्ट अटैक में १ दूरदर्शन कैमरामैन और २ पुलिस वाले मारे गए है। ये घटना दंतेवाड़ा जिला छत्तीसगढ़ में हुई है और अगले महीने यह एलेक्शंस होने वाले है।
इसके इलवा २ पोलिसवाले घायल भी हुए है दूरदर्शन टीम में ३ लोग थे जो छत्तीसगढ़ में हो रहे अटैक के बारे में जान ने गये थे।
 ये हादसा एक जंगल में हुआ है जो अरनपुर गांव के पास है। जिस मीडियामैंन की मौत हुई है उसका नाम अच्युतानन्द साहू था जो की दिल्ली के रहने वाले थे। वो दूरदर्शन का एक न्यूज़ ब्रॉडकास्टर था ।
 जिन २ पुलिसवालो की मौत हुई है उनके नाम थे रूद्र प्रताप जो कि सब इंस्पेक्टर थे और कांस्टेबल मंगलु।
 छत्तीसगढ़ पुलिस के लोग भी इसमें घायल हुए है और उनका नाम है विष्णु नेतम और राकेश कौशल और अब उन दोनों को दन्तेवाडा हॉस्पिटल से हटा कर रायपुर के बड़े हॉस्पिटल भर्ती किया जा रहा है ताकि उनका अचे से इलाज किया जा सके ।

सेंट्रल ब्यूरो ऑफ़ इन्वेस्टीगेशन यानि की सी बी आई के कर्ता धर्ता एम् नागेश्वरा राव है। ये हिन्दू सभ्यता के लिए लिए बहित योगदान भी देते है...


सेंट्रल ब्यूरो ऑफ़ इन्वेस्टीगेशन यानि की सी बी आई के कर्ता धर्ता एम् नागेश्वरा राव है। ये हिन्दू सभ्यता के लिए लिए बहित योगदान भी देते है और साथ ही साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं से भी अछा ताल्लुकात रखते है ।
 राव जी ने बहुत से संस्थानों के साथ बहुत बड़े और गम्भीर मुद्दो पर काम किया है और हिंदुत्व को आगे बढ़ाने का जड़ से जाड़ा प्रयास भी किया है।
 इंडिया फाउंडेशन एंड विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन के कई कार्यक्रम में इन्होने साथ दिया है जिनमे से ज़्यादा तर वो कार्यक्रम थे जो हिंदुओं के हित में रखे जाते थे ।
 इन्होने भारत में हो रहे कई बड़े फैसलों का साथ देने से इंकार करके उसके खिलाफ आवाज़ उठाई है जैसे हिंदुओं के प्रति हो रहे भेद भाव और बाकि जातियों को मिलते फ़ायदे। ये चाहते है की हिन्दुओं को भी उतने ही फायदे मिले जितने बाकी सबको मिलते है वरना किसी को नहीं मिलने चाहिए ।
 राव जी सबको हिन्दुत्व की महत्वता समझाना चाहते है ताकि हिंदुओं पर हो रहे अत्याचारों से मुक्ति मिल सके और इसके लिए वह चाहते है की हिन्दू अपना इतिहास सबको खुद बता सके ।
 आज वह सी बी आई के पुराने कर्ता धर्ता अलोक वर्मा की जगह ले चुके है और हिटदुत्व को बढ़ाने की तरफ उनका पूरा ध्यान है।

केंद्र ने आज दिल्ली हाई कोर्ट को ये सूचित किआ है की रपे से जुड़े सारे कानून लिंग तटस्थ नहीं हो सकते है। लिंग तटस्थ का अर्थ है दोनों लिंग...


केंद्र ने आज दिल्ली हाई कोर्ट को ये सूचित किआ है की रपे से जुड़े सारे कानून लिंग तटस्थ नहीं हो सकते है। लिंग तटस्थ का अर्थ है दोनों लिंगो के हित में या दोनों लिंगो के बारे में बराबर सोचना ।
 केंद्र ने यह बताना चाहा है कि ये कानून भारत में महिलाओं की सुरक्षा के लिए बनाये गये है और इसलिए ये कानून महिलाओं की सुरक्षा के हित में ही होंगे।
 मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स ने ये दावा किया और अपना जवाब चीफ जस्टिव राजेंद्र मेनन के आगे ये रखा था की रपे से जुड़े कानून लिंग तटस्थ होने चाहिए और सेक्शन ३७५ और ३७६ ऑफ़ आई पी सी को बदलने की मांग राखी थी।
 पर इस बात पर यह कहा गया है कि सेक्शन ३७५ महिलाओं के हित में ही रहेगा , हाला  की १८ साल से छोटे उम्र के लड़को के लिए कानून भी बनाये गये है जो 'प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रन' के अंदर बताए गए है पर १८ की उम्र पार करते ही लड़कों के लिए कोई कानून नहीं है ।
 अतः केंद्र ने यह कहा है की रपे से सम्बंधित सारे कानून महिलाओं के हित में ही रहेंगे क्योंकि इतिहास से ही ये सारे जुल्मों का शिकार केवल महिलाएं ही बनी है और उन्हीं को इन कानूनों की आवश्यकता है ।